हुलासो के सती माई

सती किसे कहते है। सती एक ऐसी स्त्री है जो इतनी पवित्र है कि उसे कभी भी अपने पति के अलावा अन्य पुरुषों के बारे में कोई विचार नहीं होता है। वह मन, वचन और काया से किसी अन्य पुरुष 

खा खा खइया

एक पडित जी थे , नाम उनका था भोला। पढ़े लिखे कुछ ख़ास न थे , परन्तु पुरे क्षेत्र में उनकी पंडिताई का खूब रोब था। पुरे गांव की जजमानिका वह ही सम्हालते थे। दूसरे गांव का भूले भटके अगर 

खूंटा में दाल

एक चिड़िया थी, जो रोज दाना चुगने के लिए अपने बच्चों को घोंसले में छोड़कर, दूर जंगलों के पार बस्तियों में जाया करती थी। एक दिन किसी घुरे पर उसने एक चने का दाना पाई। वह उसे लेकर चक्की में 

नेवला और सात भाईयों की कहानी

एक राजा था उसकी सात रानियां  थी।  उस राजा की कोई संतान नहीं थी इस कारण वह बड़ा ही उदास रहता था। एक दिन उस राजा के राज्य में एक ब्राह्मण आए और राजा को एक फल दिए और बोले 

लोकप्रिय भोजपुरी कहावतें और मुहावरे

भोजपुरी कमाल की भाषा है| जो बातें आपको किसी और भाषा में मामूली-सी लगेंगी, वही भाषा भोजपुरी में सुनने में अलग ही मज़ा आता है| कुछ ऐसी भोजपुरी कहावतें और मुहावरे, जिन्हें पढ़ कर आपका मूड सेट हो जाएगा| नव के 

जिउतिया/जीवित्पुत्रिका व्रत क्यों मनाया जाता है

यह कथा महाभारत काल से जुड़ी हुई हैं | महा भारत युद्ध के बाद अपने पिता की मृत्यु के बाद अश्व्थामा बहुत ही नाराज था और उसके अन्दर बदले की आग तीव्र थी, जिस कारण उसने पांडवो के शिविर में